Latest

Resolution No. - 1

FOREIGN INVESTMENT IN INDIA

स्वदेशी जागरण मंच
राष्ट्रीय परिषद बैठक, पनीपत (हरियाणा)
31 मई - 1 जून 2014

प्रस्ताव क्रमांक - 2

आर्थिक चुनौतियां और समाधान

स्वदेशी जागरण मंच
राष्ट्रीय परिषद बैठक, पनीपत (हरियाणा)
31 मई - 1 जून 2014

प्रस्ताव क्रमांक - 3

जी.एम. फसलों के खुले परीक्षण के खतरे

Do not shed responsibility of maintaining public utilities (Resolution-1)



Swadeshi Jagran Manch views with grave concern, the increasing and unaffordable cost of public utilities be it education, health service, water, electricity, and transportation etc.In the name of liberalization the government is not only letting these fields open to private sector profiteering but it is also abandoning its primary duty of regulation and quality control.

National Interests Compromised at Bali(Resolution-2)



It is disconcerting to hear what has happened at the World Trade Organisation (WTO) ministerial meet at Bali. The government of India has compromised the interest of India, both of its farmers as well as agreeing to the trade facilitation agreement. The government has done so without any quid pro quo on behalf of the developed countries whatsoever.

Protect Environment for posterity (Resolution-3)



The term Western Ghats refers to the chain of mountains running parallel to the western coast of the Indian peninsula. It runs from North to South starting from River Tyapti in Gujrat upto Kanyakumari in the south, for a distance of 1600 kms. It’s total area is 160000 square kilometers. It covers six states namely, Gujarat, Maharashtra, Goa, Karnataka, Kerala and Tamil Nadu.

Mend Policies, Save Nation (Resolution-4)





जनसुविधाएं उपलब्ध कराने के दायित्व से न बचे सरकार (प्रस्ताव-1)

स्वदेशी जागरण मंच शिक्षा, स्वास्थ्य, पेय जल, बिजली और यातायात जैसी जनसुविधाओं की बढ़ती हुई कीमत के कारण गरीब जनता को हो रही असुविधा से बहुत चिंतित है। उदारीकरण के नाम पर सरकार न केवल इन क्षेत्रों को निजी क्षेत्र में लाभ कमाने के लिए खोल रही है, अपितु अपने मूल दायित्व से भी मुंह मोड़ रही है।



बाली में राष्ट्रीय िहतों से समझौता (प्रस्ताव-2)

बाली (इंडोनेिशया) में संपन्न िवश्व व्यापार संगठन का मंत्री स्तरीय सम्मेलन मंे जो हुआ वह दुःखद था। भारत सरकार ने कृिष तथा व्यापार सुिवधा समझौते सिहत देश के िहतों के साथ िखलवाड़ िकया। सरकार ने यह बदले में कुछ िलए िबना ही करने की िहमाकत की है। सरकार इसको देष के िलए जीत बता रही है। उसका कहना है िक बाली में हुए समझौते के कारण अंतरराष्ट्रीय व्यापार में आ रही दिक्कतों को समाप्त िकया गया है तथा भारत के खाद्य सुरक्षा कानून को समर्थन िमला है।



आने वाली पीढि़यों के लिए पर्यावरण की रक्षा (प्रस्ताव-3)

पश्चिमी घाट भारतीय तटवर्तीय क्षेत्र के पश्चिमी तट से लगे पहाड़़ी कडि़यों को कहते हैं। यह उत्तर से गुजरात में ताप्ती नदी से शुरू होकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक जाती है जो 1600 किमी. तक है। यह 6 राज्यांें को छुती है जिनमें गुंजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडू शामिल हैं।


पश्चिमी घाट अपने घने जंगलों और शानदार जैव विविधता के कारण पूरे विश्व में जाना जाता है। विश्व के 34 सबसे अच्छे जैव विविधता वाले स्थानों में यह है तथा इनमंे भी 8 शानदार स्थानांें में यह है।